आईयूआई क्या हैं कैसे होता है पूरी प्रक्रिया: IUI Treatment in Hindi

Pregnancy - गर्भावस्था आईयूआई क्या हैं कैसे होता है पूरी प्रक्रिया: IUI Treatment in Hindi

हर महिला का सपना होता है वो एक दिन माँ बने, उसे भी बच्चे का सुख मिले। पर कुछ महिलाए सालो प्रयास के बाद भी नेचुरल तरीके से प्रेग्नेंट नहीं हो पाती। ऐसे मे उनके लिए क्रत्रिम तरीके से गर्भवती होने के विकल्प होते हैं। जिसके लिए डॉक्टर उन्हें IVF और IUI Treatment कराने के सलाह देते हैं। IUI यानी Intrauterine Insemination ऐसा infertility treatment (बांझपन इलाज) हैं जो हर साल लाखो महिलाओ को प्रेग्नंत होने मे मदद करता हैं। आज हम जानेंगे आईयूआई क्या हैं? IUI Cost, Procedure, Success Rate in Hindi.

आईयूआई करने की प्रक्रिया सरल होती हैं और इसे कराने मे खर्चा IVF जैसे दूसरे महंगे इनफर्टिलिटी ट्रीटमेंट के मुकाबले काफी कम होता हैं। इसलिए डॉक्टर उन महिलाओ को सबसे पहले IUI कराने की सलाह देता हैं जिन्हें गर्भधारण मे समस्या आती हैं।

 

आईयूआई क्या हैं : IUI Treatment in Hindi

IUI Cost Process Success Rate in Hindi

महिला और पुरुष के मेल के दौरान निकलने निकले शुक्राणु योनिमार्ग और गर्भाशय से होते हुए फैलोपियन ट्यूब तक पहुचते हैं और जब वहा मौजूद अंडे से मिलते हैं तो महिला गर्भवती होती हैं। पर कुछ औरतो में कुछ कारणों की वजह से ऐसा नहीं हो पाता और उनके लिए प्रेग्नंत होना मुमकिन नहीं हो पाता।

IUI एक ऐसी प्रक्रिया हैं जिसमे पुरुष के शुक्राणु (Sperm) लिए जाते हैं और उनकी पहले सफाई होती हैं जिसमे मृत और फालतू शुक्राणु को अलग कर दिया जाता हैं और केवल अच्छे शुक्राणुओं को ही एक पतली प्लास्टिक नली के माध्यम से सीधा गर्भाशय में डाला जाता हैं। जिससे स्पर्म का अंडे के साथ निषेचन होना आसान बन जाता हैं जिससे गर्भवती होने की संभावना काफी  बढ़ जाती हैं।

आईयूआई करने से पहले कुछ दवाइया भी महिला को दी जाती हैं जो एक अच्छा अंडा बनने मे मदद करती हैं जिससे आईयूआई करने पर प्रेग्नंत होने की संभावना बढती हैं। IUI मे गर्भधारण की प्रक्रिया लगभग सामान्य के जैसे ही होती हैं बस इसमें नेचुरल के बजाय कृत्रिम तरीके से स्पर्म को अंडे तक पहुचाया जाता हैं।

IUI Treatment किसे करना चाहिए और किसे नहीं?

अगर आप आईयूआई करवाने की सोच रहे हैं तो सबसे पहले आपको ये सुनिश्चित करना चाहिए की आपकी फैलोपियन ट्यूब स्वस्थ हैं या नहीं। अगर फैलोपियन ट्यूब बंद हैं या कोई रुकावट हैं तो IUI कराने का कोई फायदा नहीं होता। फैलोपियन ट्यूब मे कोई गाँठ या फिर कोई जख्म हैं तब भी आईयूआई के सफल होने की संभावना काफी कम होती हैं। आईयूआई ट्रीटमेंट किन जोड़ो के लिए फायदेमंद हो सकता हैं वो नीचे दिए हैं :

  • ऐसे दंपति जिन्हें कुछ शारीरिक अक्षमताओं या फिर पुरुष साथी को किसी चोट के कारण आपसी मेल करने मे समस्या आती हो।
  • प्रेग्नंत ना होने के किसी भी कारण का समझ ना आना।
  • पुरुष साथी में शुक्राणु की संख्या कम और शुक्राणु की कम गतिशीलता होना।
  • महिला साथी को हल्की एंडोमेट्रियोसिस की समस्या होना।
  • जो महिलाए स्पर्म डोनर से प्रेग्नेंट होना चाहती हैं उनके लिए भी आईयूआई करना सही विकल्प रहता हैं।
  • ओव्यूलेशन के समय गर्भाशय मे एक तरल बनता हैं जो शुक्राणु को फैलोपियन ट्यूब तक पहुचाने मे मदद करता हैं। कुछ महिलाओ मे ये तरल ज्यादा गाढ़ा बनता हैं और स्पर्म को आगे बढ़ने से रोकने लगता हैं ऐसे मामलो मे भी IUI Treatment करनी की सलाह दी जाती हैं।

 

आईयूआई किन महिलाओ के लिए फायदेमंद नहीं होता

  • जिन औरतो की fallopian tubes बंद होती हैं या फिर किन्ही कारणों से उन्हें निकलवा दिया जाता हैं।
  • जिन महिला को फैलोपियन ट्यूब संबधित कोई रोग होता हैं।
  • पुरुष साथ के के स्पर्म निल या जीरो स्पर्म होते हैं।
  • जिन महिलाओं को कई पैल्विक संक्रमण हुए हैं।
  • गंभीर स्तर का  एंडोमेट्रियोसिस होना।

 

आईयूआई करवाने मे खर्चा कितना आता हैं : IUI Cost in India

ऐसे दम्पति जो 1-2 साल से  नेचुरल तरीके से Pregnancy Conceive करने की कौशिश कर रहे हैं पर उन्हें निराशा ही हाथ लगी हो उनके लिए दवाइयों के बाद जो पहला विकल्प डॉक्टर सलाह देते हैं वो हैं IUI. आईयूआई एक सरल और कम जोखिम का ट्रीटमेंट होता हैं जो प्रेग्नंत होने की संभावना को काफी बढ़ा देता हैं। IVF/Test Tube Baby जैसे दूसरे बांझपन के इलाज जो काफी पोपुलर हैं उनकी तुलना मे IUI करवाने का खर्चा बहुत कम हैं।

भारत मे IUI Treatment कराने का Total Cost (कुछ खर्चा) 5 हजार से 15 हजार के बीच मे आ जाता हैं। आईयूआई करवाने का खर्चा इस बात पर भी निर्भर करता हैं की आप किस शहर से और कौन से हॉस्पिटल से करवा रहे हैं। इसमें IUI से पहले होने वाले Ultrasound Test और Medicine शामिल हैं। वही IVF Total Cost 1 लाख से 3 लाख के बीच मे आ जाती हैं जो की IUI से काफी अधिक हैं। इसलिए बाँझपन के इलाज के लिए पहले आईयूआई करना ही सही विकल्प होता हैं।

 

आईयूआई कैसे किया जाता हैं : IUI  Procedure in Hindi

IUI एक आसान प्रक्रिया हैं जिसे डॉक्टर द्वारा हॉस्पिटल मे किया जाता हैं। आईयूआई मे एक सही समय पर पुरुष साथी के स्पर्म को महिला साथी के गर्भाशय मे रखा जाता हैं। और वो सही समय होता हैं Ovulation Day. ये वो दिन होता हैं जिस दिन अंडा फेलोपियन टुब मे आ जाता हैं। पीरियड शुरू होने के 12 से 18 दिन के बीच मे Ovulation Day हो सकता हैं। चलिए विस्तार से जानते हैं आईयूआई की पूरी प्रक्रिया।

IUI करने से पहले Ultrasound और Medicine

  • आईयूआई कराने से पहले आपको कई बार हॉस्पिटल जाना होगा। डॉक्टर आपका अल्ट्रासाउंड टेस्ट, ब्लड टेस्ट और कुछ अन्य जाँच करेगा।
  • आपको कुछ मेडिसिन दी जाएगी जिन्हें आपको पीरियड के दौरान ही लेना शुरू करना हैं। ये मेडिसिन आपके Egg Quality को बेहतर बनाने और Ovulation से संबधित होगी।
  • पीरियड के बाद से आपकी Follicle Study होगी जिसमे आपके Ultrasound test किया जाएंगे जिनके जरिये आपके अंडो के विकास को जांचा जायगा।
  • Ultrasound मे जब अंडे का सही विकास हुआ नज़र आएगा तब डॉक्टर आपको Egg Rupture करने के लिए human chorionic gonadotropin (HCG) Injection दे सकता हैं।
  • अगले 24 से 48 घंटे बाद डॉक्टर IUI की प्रक्रिया करेगा जिसके लिए पहले पुरुष साथी का Seman Sample चाहिए होगा। इस सैंपल को तुरंत लैब मे भेज दिया जाता हैं जहा इसकी सफाई की जाती हैं और केवल अच्छे स्पर्म को ही IUI के लिए अलग किया जाता हैं।

IUI की प्रकिया कैसे होती हैं

  • आईयूआई की पूरी प्रक्रिया बिना ज्यादा पीड़ा के जल्दी ही पूरी हो जाती हैं। इस दौरान ना तो आपको बेहोश किया जाता हैं और ना ही सुन्न किया जाता हैं।
  • डॉक्टर आपको एक टेबल पर लेटने को बोलेगा, जहा आपको अपने टाँगे खोलकर लेटना होगा। इसके बाद डॉक्टर एक सिरिंज मे स्पर्म भरेंगे और एक पतली लम्बी नली के माध्यम आपके गर्भाशय मे स्पर्म डालेंगे। इस प्रक्रिया मे 2-3 मिनट का समय ही लगेगा।
  • इसके बाद आपको 15-30 मिनट तक उसी हालत मे रहने को बोला जाएगा।
  • कुछ महिलाओ को इस दौरान गर्भाशय मे हल्की ऐंठन या ब्लीडिंग भी हो सकती हैं।
  • IUI के बाद आप अपनी नार्मल दिनचर्या को जारी रख सकते हैं। इसके बाद कुछ विशेष परहेज की जरुरत नहीं होती।

IUI करवाने के बाद Pregnancy test कब करे? ये सवाल काफी लोगो का रहता हैं। आईयूआई होने के बाद कम से कम 14 दिन बाद ही प्रेगनेंसी टेस्ट करना चाहिए। आप अपने घर पर ही प्रेगनेंसी टेस्ट किट से अपने प्रेग्नंत होने या ना होने का पता लगा सकते हैं।

आईयूआई कितना सफल हैं : IUI Success Rate in Hindi

IUI Treatment की Success Rate क्या हैं? आईयूआई  करवाने के बात प्रेगनेंसी होगी या नहीं, ये महिला की उम्र पर भी काफी निर्भर करता हैं। इसके अलावा कई और फेक्टर हैं जो इसकी सफलता को प्रभावित करते हैं। 40 साल के बाद आईयूआई सफलता दर काफी गिर जाती हैं। महिला की उम्र के हिसाब से औसतन IUI per cycle Success Rate होती हैं :

  • 20 से 30 साल : 18%
  • 30 से 35 साल : 14%
  • 36 से 40 साल : 9%
  • 40 से उपर की उम्र : 6%

अगर कई IUI Cycle कराने के बाद भी Pregnancy Result Negative ही निकलता हैं तो डॉक्टर आपको IVF कराने की सलाह देते हैं। जिसके Success rate, iui की तुलना मे बहुत अधिक तो होता हैं पर उसके साथ वो महंगा भी काफी होता हैं।

दोस्तों अगर आपको हमारा ये लेख आईयूआई क्या हैं : IUI Treatment Cost, Process, success rate in Hindi? अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे IUI से जुड़े सवाल या सुझाव आप नीचे कमेंट्स मे लिखना ना भूले।

Recent Articles

Ghar Par Makeup Karne ke Tarika – 5 Makeup Tips in Hindi

Makeup Karne ke Tarika : Har ladki sundar dikhana chahti hai aur yahi karan hai ki makeup karna har ladki ko pasand hota hai....

Yoga se Vajan Badhane ke Upay: 6 Weight Gain Tips in Hindi

Vajan badhane ke upay: Agar aap apne duble patle shareer se pareshaan hai aur wajan badhane ke liye koshish karne ke baad bhi ab...

Muh ki Badbu Ke 15 Aasan Gharelu Nuskhe: Bad Breath in Hindi

Muh ki badbu (Bad breath) kaise dur kare: Munh mein badboo aane ki wajah se kai baar hame logo ke samane sharminda hona padta...

Garmi se Bachne ke 3 Energy Drink Banaye 5 Minute Mein

Garmi se Bachne ke Upay: Jadatar log garmi se bachne ke liye cold drinks aur ice cream ka sahara lete hai jo shareer ko nuksaan...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × 3 =