आँखों में दर्द के साथ जुड़े जोखिम और जटिलताएं क्या हैं

Pain in Eyes - आँखों में दर्दआँखों में दर्द के साथ जुड़े जोखिम और जटिलताएं क्या हैं

आँखों में दर्द होने पर कुछ समय के बाद वो अपने आप कम और सही भी हो जाता है| कई बार कुछ लोग घरेलु उपचार अपनाते है और उनकी आँखों का दर्द समाप्त हो जाता है, लेकिन दर्द अगर समाप्त नहीं हो रहा है तो आपको बिना कोई लापरवाही करते हुए तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए और आँखों की जाँच करनी चाहिए|

अगर आप आँखों में दर्द की तरफ ध्यान नहीं देते है तो कई बार उस दर्द की वजह से कुछ ऐसी परेशानी उत्पन हो जाती है जिनका इलाज बहुत मुश्किल हो जाता है| आँखों में दर्द होने का कारण जरूर पता करना चाहिए अगर आपकी आँख में दर्द ग्लूकोमा की वजह से हो रहा है और ऐसे में आप लापरवाही करते है| तो आगे चलकर वो परेशानी बढ़ती चली जाती है और एक स्थिति ऐसी आ जाती है जब इलाज करना काफी मुश्किल हो जाता है और अगर इलाज नहीं करते है तो आगे चलकर ग्लूकोमा आपकी आँखों की रौशनी को पूरा खत्म कर देता है और आप अंधे भी हो सकते है|

इसीलिए आँखों में हल्की सी भी परेशानी और दर्द महसूस हो तो तुरंत किसी नेत्र चिकित्सक के पास जाना चाहिए और उनसे जाँच कराने के बाद सलाह लेनी चाहिए, कभी भी कोई सी भी दवाई, आई ड्राप और मरहम अपनी या किसी और की सलाह पर आँखों में नहीं लगानी या डालनी चाहिए| आँखों में दर्द अगर कुछ गिर जाने से या पलकों का बाल चले जाने से हो रहा है तो आँखों को ताजे पानी से धो ले ऐसा करने से दर्द में आराम मिल जाएगा| लेकिन अगर आँखों में दर्द की वजह सामान्य नहीं है तो देरी नहीं करनी चाहिए तुरंत आँखों की जाँच करके सबसे पहले दर्द का कारण जानना चाहिए, फिर उसका इलाज कराना चाहिए| कई बार हम आँखों में दर्द को अनदेखा कर देते है और आँखों में दर्द मांसपेशियों में कुछ परेशानी के कारण हो रहा होता है, धीरे धीरे मांसपेशियों में समस्या बढ़ती जाती है| जब तक हम उस तरफ ध्यान देते है तब तक परेशानी काफी बढ़ जाती है और उसका सही होना बहुत ज्यादा मुश्किल पढ़ जाता है, कई बार कुछ ऐसी कमी हो जाती है जो जिंदगी भर दूर नहीं हो पाती है और हमे उस कमी के साथ जीना पड़ता है|

Recent Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Articles