हलीम के बीज के बेमिसाल फायदे, उपयोग और रेसिपी ( garden cress seeds in hindi )

Health Tips in Hindi - हेल्थ टिप्सहलीम के बीज के बेमिसाल फायदे, उपयोग और रेसिपी ( garden cress...

हलीम के बीज के फायदे ( garden cress seeds in hindi ) :- Garden cress सीड्स को हिंदी में हलीम के बीज के नाम से जाना जाता है| हलीम के बीज में फाइबर,कैल्शियम,पोटेशियम और कई प्रकार के विटामिन्स इत्यादि प्रचुर मात्रा में पाए जाते है|आमतौर पर बहुत से लोग सुपर फूड खाना पसंद करते हैं। चिया, लौकी और असली के बीज सहित कई ऐसे सीड्स हैं, जो सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। फिट रखने और बीमारियों से सुरक्षा के लिए दुनिया भर में लोग बड़े पैमाने पर सुपरफूड का सेवन करते हैं।

हलीम के बीज वजन को कम करने का बेहद असरदार तरीका है। हलीम के बीजों में कैल्शियम, विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन ई के अलावा प्रोटीन व फाइबर जैसे पोषक तत्व पाये जाते हैं। यदि आप अपनी डाइट में हलीम के बीजों का सेवन करना शुरू करते हैं, तो इससे आप लम्बे समय तक तृप्त महसूस करेंगे। इसमें मौजूद फाइबर आपको वजन कम करने या वजन को कंट्रोल रखने में सहायक होता है।

असल में हलीम के बीज यानी गार्डन क्रेस सीड्स अपनी गुडनेस के कारण आपको कई स्वास्थ्य लाभ देते हैं। आयुर्वेद में कई सुपर फूड्स का जिक्र किया गया है। इन सुपर फूड्स में से एक हलीम के बीज भी हैं। हलीम के बीज के बारे में अधिकतर लोगों को जानकारी नहीं है या फिर इस बीज के फायदों के बारे में कम ही लोगों को पता है।हलीम के बीज पौष्टिक गुणों से भरपूर हैं। इसे गार्डन क्रेस, चनसूर या चमसूर भी कहते हैं। हलीम की तासीर गर्म मानी जाती है, अधिकतर सर्दियों में इसका सेवन करना बेहतर होता है।

हलीम की तासीर गर्म मानी जाती है, अधिकतर सर्दियों में इसका सेवन करना बेहतर होता है। आज हम आपको हलीम के बीजों के फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं आइए जानते हैं इस बारे में|

हलीम के बीज के फायदे ( benefits of garden cress seeds in hindi )

1 –  अस्थमा के रोग में भी फायदेमंद – हलीम के बीज में मौजूद पोषक तत्व अस्थमा के रोग की परेशानी को कम करने में मददगार साबित हो सकते है| हलीम के बीजों का सेवन करने से आपको अस्थमा के रोग में जल्द ही लाभ प्राप्त हो सकता है|

2 – झड़ते बालों की समस्‍या में भी लाभदायक – आज के समय में प्रदूषित वातावरण और शरीर में कमजोरी की वजह से कई बार बाल झड़ने की समस्या का सामना करना पढ़ सकता है| अगर आप भी बालो के झड़ने की परेशानी से ग्रसित है तो हलीम के बीज आपके लिए एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है| हलीम के बीजो में मौजूद प्रोटीन और अन्य पोषक तत्व बालों को स्‍वस्‍थ और मजबूती प्रदान करने में सहायक होते है। नियमित रूप से हलीम के बीजो का सेवन करने से बहुत जल्द आपके बाल झड़ने और टूटने बंद हो जाएंगे और आपके बाल घने और मजबूत होने लगते है|

3 – वजन कम करने में सहायक – बहुत सारे ऐसे लोग जो मोटापे और बड़े हुए वजन से परेशान है,ऐसे लोग बड़े हुए वजन को कम करने के लिए जिम,घरेलू नुस्खे, योग इत्यादि अपनाते है| अगर आप भी बढ़े हुए वजन से परेशान है तो हलीम के बीज आपके लिए बेहतर विकल्प साबित हो सकते है| हलीम के बीजो में मौजूद फाइबर, प्रोटीन और अन्य कई पोषक तत्‍व इंसान की भूख को कम करने में सहायक होते है,किसी भी इंसान की जब भूख कम हो जाती है तो वजन भी धीरे धीरे कम होने लगता है|

4 – इम्‍युनिटी बढ़ाने में भी मददगार – किसी भी इंसान के शरीर की इम्‍युनिटी पॉवर कम हो जाती है तो ऐसे इंसान को रोग होने की संभावना बढ़ जाती है और अगर किसी भी इंसान की इम्युनिटी पॉवर मजबूत होती है तो ऐसे इंसान को रोग जल्दी से नहीं होते है| हलीम के बीजो में मौजूद पोषक तत्व शरीर की इम्युनिटी पॉवर बढ़ाने में काफी सहायक होते है| हलीम के बीजो के साथ साथ उसकी  पत्तियां का सेवन करने से आपके शरीर की इम्युनिटी काफी बढ़ जाती है|

5 –  कब्ज की समस्या में फायदेमंद – अनियमित और असंतुलित भोजन करने से कई बार इंसान को कब्ज की परेशानी का सामना करना पढ़ सकता है| अगर आप भी कब्ज की परेशानी से ग्रसित है तो हलीम के बीज आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकते है, हलीम के बीजो में मौजूद पोषक तत्व कब्ज की परेशानी को दूर करने में सहायक होते है| नियमित रूप से हलीम के बीजो का सेवन करने से आप अपने पाचन तंत्र को भी मजबूत करने के साथ साथ कब्ज की परेशानी से राहत प्राप्त कर सकते है|

6- अनियमित पीरियड्स की समस्या से छुटकारा – हलीम के बीजों में ऐसे पोषक तत्व पाये जाते हैं, जो आपकी अनियमित पीरियड्स की समस्या को दूर करने में मदद करते हैं। हलीम के बीज में फाइटोकेमिकल्स होता है। यह एस्‍ट्रोजन की तरह काम करते हैं। जिसकी मदद से अनियमित पीरियड्स और दर्द की समस्या को दूर करने में मदद मिलती है।

7-स्किन को रखें स्वस्थहलीम के बीज विटामिन E और A का बहुत अच्छा सोर्स होते हैं। इसमें भरपूर मात्रा में आयरन और फैटी एसिड्स होते हैं, जो प्रेग्‍नेंसी के बाद त्वचा में आए ढीलेपन और बालों के झड़ने को रोकते हैं।

8- एनीमिया दूर करे – हलीम बीज में भरपूर मात्रा में आयरन पाया जाता है। यह लाल रक्त कोशिकाओं की वृद्धि को बढ़ाता है और हीमोग्लोबिन के स्तर को सुधारता है। इसके अलावा हलीम बीज में विटामिन सी भी मौजूद होता है। एक चम्मच हलीम बीज में 12 मिलीग्राम आयरन पाया जाता है। इसका सेवन करने से शरीर में खून की कमी नहीं होती है।

9- यह स्तन में दूध के उत्पादन को बढ़ाता है – चूंकि हलीम के बीज प्रोटीन और आयरन से भरपूर होते हैं और इसमें गुणकारी गैलेक्टागोग गुण होते हैं। इसलिए ये स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं। गैलेक्टिक गोग्स ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जो स्तन ग्रंथियों से स्तन के दूध के उत्पादन को प्रेरित करने, इसे बनाए रखने और बढ़ाने के लिए उपयोग किए जाते हैं।

10-मासिक धर्म को नियमित करने में मदद करते हैं – महिलाओं को प्रेगनेंसी प्लान करने के लिए मासिक धर्म चक्र का विनियमन करना बहुत महत्वपूर्ण है। हलीम बीज फाइटोकेमिकल्स में समृद्ध हैं, जो एस्ट्रोजन हार्मोन की नकल करते हैं, और पीरियड्स को नियमित करते हैं। यह हार्मोन को नियमित करने और अनियमित मासिक धर्म चक्र को सामान्य करने का एक प्राकृतिक तरीका साबित हो सकता है।

हलीम के बीज का उपयोग और रेसिपी

  1. हलीम के बीज का उपयोग आप सीधे तौर पर भी कर सकते है|
  2. हलीम के बीज के लड्डू बनाकर भी सेवन कर सकते है|

हम आशा करते है की sehatdoctor के द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी और जिस भी परेशानी के नुस्खे आपने पढ़ें है उस परेशानी में भी आपको आराम प्राप्त हुआ होगा| किसी भी अन्य बीमारी या परेशानी के लिए हेल्थ टिप्स इन हिंदी (health tips in hindi) और घरेलु नुस्खे इन हिंदी (gharelu nuskhe in hindi) जरूर पढ़ें और लाभ प्राप्त करें| आपका अनुभव कैसा रहा इसकी जानकारी कमेंट करके जरूर बताए |

Recent Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Articles