रतौंधी से जुड़े जोखिम और जटिलताएं क्या हैं

0
870

आजकल की जिंदगी में धुल, मिटटी और प्रदूषित वातावरण से अपनी आँखों को बचाना बहुत ही जरुरी हो चूका है वरना आपकी आँखों में कई बीमारी और परेशानी हो सकती है। अगर आपको दिन में साफ़ और सही दिखाई दे रहा है और रात में आपको चीजे साफ़ नहीं दिखाई दे रही है तो इसका कारण रतोंधी भी हो सकता है। इसकी पुष्टि केवल नेत्र चिकित्सक आपकी आँखों की जाँच करने के बाद ही कर सकता है। अगर आपकी आँखों में रतोंधी की परेशानी का हल्का सा भी अहसास हो तो कभी भी लापरवाही ना करें तुरंत किसी अच्छे आँखों के डॉक्टर के पास जाए और इलाज कराए। अगर आप लापरवाही करते है तो कई बार आपको बहुत सारे जोखिम उठाने पढ़ सकते है। कुछ लोग अपनी मर्जी से आँखों में कोई आई ड्राप लेकर अपनी आँखों में डाल लेते है, जिसकी वजह से परेशानी कम होने की जगह बहुत ज्यादा बढ़ जाती है, इसलिए हमेशा दवाई का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह से ही करना चाहिएl अगर रतोंधी की परेशानी जन्म से हो तो उसका इलाज सम्भव नहीं है। चलिए आज हम आपको रतोंधी से होने वाले जोखिम के बारे में बताते है, जिनसे आपको काफी जानकारी मिल सकती है –

1 – रतोंधी की परेशानी होने पर आपको देखने में परेशानी होने के साथ साथ आपकी आँख की नजर भी कमजोर होती जाती है। जिसकी वजह से आपकी आँखों के चश्मे का नंबर जल्दी जल्दी बदल जाता है।

2 – रतोंधी की परेशानी में अगर आप लापरवाही करते है तो कई बार ये मोतियाबिंद जैसी बीमारी का रूप भी ले लेती है।

3 – कई बार आपको पास और दूर की चीजे साफ़ नहीं दिखाई देती है, अगर आप जाँच करने में देरी करते है तो धीरे धीरे रौशनी कम होती जाती है और आखिर में आप अंधे भी हो सकते है।

4 – अगर आपकी आँख में रतोंधी की परेशानी है तो उसकी वजह से कई बार आपकी आँखों के रेटिना पर सूजन भी आ सकती है। इसलिए नेत्र चिकित्सक से अपनी आँखों की जाँच करते रहना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here