गंजापन का निदान कैसे किया जा सकता है

Hair - बाल Baldness - गंजापन गंजापन का निदान कैसे किया जा सकता है

गंजेपन की परेशानी आजकल आम बात हो गई है, पहले के समय में गंजापन बढ़ती उम्र के साथ आता था लेकिन अब ऐसा नहीं है आजकल कम उम्र में भी गंजेपन की परेशानी देखने को मिल जाती है| किसी भी महिला या पुरुष को किसी भी उम्र में गंजेपन की समस्या से झूझना पढ़ सकता है| इस दुनिया में शायद ही कोई इंसान हो जिसे बालो से प्यार नहीं हो, इसीलिए सभी इंसान बालो का खासतौर पर ध्यान रखते है| गंजेपन की समस्या का समाधान करने के लिए बहुत सारे लोग अपनी मर्जी से शैम्पू, दवाई और तेल लेकर इस्तेमाल करने लग जाते है, लेकिन उसका कोई फायदा नहीं होता है| गंजेपन की समस्या होने पर डॉक्टर आपको कुछ दवाई और तेल सिर में लगाने को देते है जिसके इस्तेमाल से बाल झड़ने की परेशानी काफी कम हो जाती है| कई बार गंजेपन की समस्या स्थाई नहीं होती है जैसे की किसी कारणवश आपके सिर में चोट लग जाती है, जिस जगह सिर पर चोट लगती है उस जगह से सिर के बाल गायब हो जाते है| लेकिन जैसे ही आपकी चोट बिलकुल सही हो जाती है उसके कुछ समय बाद आपके सिर पर बाल अपने आप उगने लगते है| ऐसे ही एलोपीशिया नामक बीमारी में शुरुआत में बाल उड़ जाते है लेकिन कुछ ही महीनो के भीतर बाल फिर से आने लगते है| बहुत सारे लोग ऐसे होते है जो एलोपेथिक दवाई का सेवन नहीं करना चाहते है और ना ही कोई परिक्षण करवाते है वो देसी नुस्खे अपनाकर गंजेपन का इलाज कर लेते है| जब आप डॉक्टर के पास जाते है तो सबसे पहले डॉक्टर आपसे कुछ जानकारी लेते है जैसे आपको ब्लड प्रेशर, कैंसर, थाइराइड इत्यादि कोई बीमारी तो नहीं है या आपके बाल किसी दवाई के सेवन के बाद तो नहीं झड़ने शुरू हुए है| ऐसी सभी जानकारी लेने के बाद डॉक्टर आपके सिर का परिक्षण करते है या निम्नलिखित परिक्षण करवाने की सलाह दे सकते है –

1 – खून की जाँच – किसी भी इंसान के शरीर के अंदर किस चीज की कमी है या किसी दवाई की वजह से इन्फेक्शन जैसी परेशानी तो नहीं हो रही है, इन सभी बातो का पता लगाने के लिए हम सभी खून की जाँच करनी पड़ती है| अगर आप गंजेपन का शिकार हो रहे है या आपके सिर के बाल झड़ रहे है तो डॉक्टर आपको खून की जाँच की सलाह देते है| डॉक्टर उस जाँच में देखते है है की की अगर आपके शरीर में विटामिन्स की कमी तो नहीं हो रही है क्योंकि बाल झड़ने के पीछे कई बार शरीर में कमजोरी और विटामिन्स की कमी भी होती है| अगर शरीर में विटामिन्स की कमी नहीं है तो फिर यह देखा जाता है की खून में इन्फेक्शन या किसी दवाई का साइड इफ़ेक्ट तो नहीं हो रहा है, इसी प्रकार से काफी सारी जानकारी डॉक्टर को खून की जाँच से ही पता चल पाती है| जाँच कराने के बाद जब डॉक्टर को बाल झड़ने का कारण सही से पता चलता है, फिर वो आपका इलाज सही से कर पाता है|

2 – सिर की खाल की जाँच – जब आप बाल झड़ने की परेशानी लेकर डॉक्टर के पास जाते है तो डॉक्टर आपके सिर की खाल का निरिक्षण करता है| डॉक्टर चेक करता है की कही आपके सिर में दाद, एलर्जी इत्यादि कोई परेशानी तो नहीं है क्योंकि अगर आपके सिर में दाद की परेशानी हो जाती है तो शुरुआत में एक छोटा सा धब्बा जैसा होता है जो धीरे धीरे बढ़ता चला जाता है, वो धब्बा जितने भाग में बढ़ता चला जाता है उतने भाग से बाल गायब होते चले जाते है और आप गंजे हो जाते है| दूसरी तरफ हम सभी जानते है एलर्जी भी कई प्रकार की होती है अगर आपके सिर में एलर्जी की परेशानी हो गई है तो उस एलर्जी की वजह से तो आपके बाल नहीं उड़ रहे है| डॉक्टर को लगता है की एलर्जी की वजह से आपके सिर के बाल उड़ रहे है तो सबसे पहले वो आपके सिर में हो रही एलर्जी की दवाई आपको देंगे जिससे जल्द एलर्जी समाप्त हो जाएं| एलर्जी समाप्त होने के बाद कई बार बाल अपने आप भी उत्पन्न हो जाते है और कई बार दवाई का सेवन करने के बाद बाल दोबारा आ जाते है|

3 – सिर पर चोट – कई बार हमारे सिर पर चोट लग जाती है लेकिन हम उस पर गौर नहीं करते है, उस चोट की वजह से हमारे सिर के बाल उड़ जाते है| जब आप डॉक्टर के पास जाते है तो डॉक्टर आपके सिर की जाँच जब करता है तब वो उस चोट को देखकर उसका परिक्षण करने के बाद आपको दवाई दे देता है| जिससे जल्द ही चोट सही हो जाती है या चोट की वजह से अगर बाल उड़ गए है तो उन्हें दोबारा उत्पन करने के लिए आपको बालो में लगाने के लिए तेल, क्रीम इत्यादि दे सकते है| जिनके नियमित इस्तेमाल करने से आपको उस जगह पर बाल फिर उत्पन्न होते हुए दिखाई देने लगेंगे|

बाल हम सभी के लिए कितने जरुरी है इसे बताने की जरुरत नहीं है, जब भी आपके बाल झड़ते या ज्यादा टूटते है और आप डॉक्टर के पास जाते है तो कई बार डॉक्टर आपके सिर को देखकर ही आपको कुछ दवाई, तेल इत्यादि दे देते है जिनके इस्तेमाल से कई बार आपके सिर पर बाल दोबारा उगने लगते है| कुछ लोग बाल झड़ने पर देसी नुस्खों का सहारा लेते है और घर पर ही बालो का इलाज कर लेते है|

Recent Articles

शतावरी के फायदे,उपयोग और रेसिपी (asparagus in hindi)

शतावरी  (asparagus in Hindi) प्राचीन समय से शतावरी का इस्तेमाल औषधि के रूप में होता हुआ आया है| शतावरी को अंग्रेजी में एस्पेरेगस के नाम...

मेथी के अचूक फायदे,उपयोग और रेसिपी (fenugreek in hindi)

मेथी (fenugreek in hindi) मेथी का नाम लगभग सभी ने सुना ही होगा, मेथी का इस्तेमाल सब्जी के साथ साथ परांठे बनाने में भी इस्तेमाल...

ऐश गॉर्ड के फायदे,उपयोग और रेसिपी (ash gourd in hindi)

पेठा या ऐश गॉर्ड (ash gourd in hindi) शायद ही कोई इंसान हो जिसने पेठे का नाम ना सुना हो, हम सभी पेठे को मिठाई...

पालक के अचूक फायदे,उपयोग और रेसिपी (spinach in hindi)

पालक (spinach in hindi) शायद ही कोई इंसान हो जिसने पालक का नाम सुना ना हो| पालक का अंग्रेजी में स्पिनच कहते है| पालक में...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen − 11 =