Dengu Bukhar Mein Kya Kare : Gharelu Ilaj aur Upay Hindi Me

Dengue - डेंगूDengu Bukhar Mein Kya Kare : Gharelu Ilaj aur Upay Hindi Me

dengu bukhar mein kya kare : डेंगू के इलाज में सब से पहले ये जानना जरुरी है की डेंगू बुखार में क्या करे| दुनिया में हर साल डेंगू की वजह से हज़ारो लाखो लोगो की मौत होती है | डेंगू की बीमारी एडीज नामक मच्छर के काटने से होती है| ये मच्छर गंदे पानी में नहीं बल्कि साफ़ पानी में रहते है| पानी की टंकी, ड्रम या फिर कूलर में पड़े हुए पानी में ये मच्छर अपने अंडे देते हैं | (Ayurvedic home remedies tips for dengue treatment in hindi).

डेंगू बुखार में क्या करे (Dengu Bukhar Mein Kya Kare)

डेंगू में बुखार बहुत आता है और शरीर में प्लेटलेट्स भी कम हो जाती है| डेंगू के बुखार में रोगी के शरीर में ब्लड की कमी हो जाती है| ज्यादातर लोग इस बीमारी के होने पर बहुत घबरा जाती है, पर घबराने की जरुरत नहीं है| इस लेख में हम आपको डेंगू के घरेलू इलाज के साथ साथ डेंगू के लक्षण और डेंगू से बचाव के बारे में जानकारी दे रहे है |

Dengu Bukhar Mein Kya Kare: Gharelu Ilaj,lakshan,bachav aur Upay Hindi Me

डेंगू बुखार के लक्षण

अगर डेंगू के लक्षण हमें शुरुआत में ही पता लग जाये तो हम समय रहते ही डेंगू की बीमारी से बच सकते है

  • डेंगू की बीमारी अचानक तेज बुखार के साथ शुरू होती है , जिसके साथ साथ तेज सिर दर्द होता है , मांसपेशियों और जोड़ो में भयानक दर्द होता है| इसके अलावा शरीर पर लाल चकते भी बन जाते है जो सबसे पहले पैरो पर फिर छाती पर और कभी कभी सारे शरीर पर भी हो जाते है|
  • इसके अलावा पेट ख़राब हो जाना, पेट में दर्द होना, कमजोरी, दस्त लगना, चक्कर आना, भूख ना लगना भी डेंगू बुखार के लक्षण है |

डेंगू फीवर होने के कारण

जब किसी आदमी औरत या बच्चे को डेंगू बुखार हो और उसे कोई मच्छर काट ले तब उस मच्छर में भी डेंगू का वायरस चला जाता है तब अगर वही मच्छर किसी और को काट ले तो उसमे भी डेंगू का वायरस चला जाता है|

डेंगू से बचने के तरीके और उपाय इन हिंदी – Dengue Se Bachne Ke Tarike Aur Upay in Hindi

डेंगू बुखार से कैसे बचे इसकी सही जानकारी हो तो हम काफी हद तक डेंगू से बचे रह सकते है | डेंगू की रोकथाम के लिए ये जरुरी है की डेंगू के मच्छरों के काटने से बचे और इन मच्छरों के फैलने पर नियंत्रण रखा जाये|

  • मच्छरों को नियंत्रित करने के लिए कीटनाशकों का प्रयोग किया जाता है| मच्छरों को काबू करने में कीटनाशक धुआँ काफी हद तक प्रभावी हो सकता है पर मच्छरों को काटने से रोक देना भी एक तरीका है| इस प्रजाति के मच्छर दिन में काटते है जिससे मामला गंभीर बन जाता है|
  • पूरे कपडे पहना करे और रात को मच्छरदानी का प्रयोग करे |
  • घर के अंदर और घर के आसपास कही पानी जमा ना होने दे|
  • अपने आसपास सफाई का पूरा ध्यान रखे और आप जहाँ पानी इकठ्ठा कर के रखते है उसे हमेशा ढक कर रखे |
  • घर में मच्छर मारने की कुआइल या मशीन जैसे की आलआउट लगा कर रखे|
  • तुलसी के पौधे की सुगंध से डेंगू के मच्छर भाग जाती है | इसलिए घर में तुलसी के पौधे जरूर लगाए |

एलोपेथी में डेंगू बुखार का इलाज

  • डेंगू के इलाज के लिए एलोपेथी में कोई दवा (medicine) नहीं है , आप चाहे तो डेंगू के बुखार में सिर्फ पैरासिटामोल ले सकते है|

बाबा रामदेव का डेंगू का घरेलु उपचार – डेंगू का आयुर्वेदिक उपाय

Baba Ramdev ka Dengue Ka Gharelu Upchar, Dengue Ka Ayurvedic Upay

  1. डेंगू होने पर बुखार कंट्रोल नहीं होता और मरीज के प्लेट्स कम हो जाती है जो कई बार प्लेट्स दुबारा चढाने के बाद भी फिर से कम हो जाती है| . कई बार प्लेट्स के घटने से और लगातार बुखार के रहने से मरीज की मौत भी हो जाती है . यही कारन है की डेंगू को एक जान लेवा बीमारी कहा जाता है| .
  2. डेंगू बुखार में क्या खाये : एलोवेरा , गिलोय , गेहू का जवारा और पपीते के पत्तो का रस मिला कर पीने से 100% डेंगू ठीक हो जाता है . आप यही रस चिकनगुनिया के मरीज को भी पीला सकते है| अगर ये चारो चीजे न मिले तो सिर्फ गिलोय का पानी दिन में 3 बार पीने से भी डेंगू ठीक हो जाता है|
  3. हर रोज सुबह शाम गिलोय का रस घी में या शहद में मिला कर पीने से शरीर ब्लड की कमी दूर होती है|
  4. डेंगू बुखार का रामबाण उपचार : 1 गिलास पानी में थोड़ी सी गिलोय को पीस ले और उसमे 5-6 पत्तिया तुलसी की मिला कर उबाल ले और एक काढ़ा बना कर पिए| इसके साथ 3 चमच्च एलोवेरा का रस पानी में मिला कर हर रोज पिए तो कभी कोई बीमारी नहीं होगी, इसमें पपीते के 3-4 पत्तो का रस मिला कर दिन में 3 से 4 बार पीने से प्लेट्स की मात्रा जल्दी से बढ़ती है| ये दवा डेंगू , स्वाइन फ्लू और चिकनगुनिया में रामबाण का काम करती है|
  5. Janiye Dadi Maa Ke Gharelu Nuskhe aur Upay

डेंगू का उपचार होम्योपैथिक मेडिसिन से

होमियोपैथी से डेंगू का इलाज करने के लिए राजीव दीक्षित जी ने निचे लिखी हुई होम्योपैथिक दवा लेने की सलाह दी है| राजीव दीक्षित को आप आयुर्वेद और होमियोपैथी के एक्सपर्ट भी कह सकते है| उन्होंने लोगो को नेचुरल होम रेमिडीज के प्रयोग के बारे में जागरूक किया और ये बताया हम कैसे एक स्वस्थ जीवन जी सकते है|

  1. Aconite – 200
  2. Bryonia – 200
  3. Arsenicum – 200
  4. Dulcamara – 200
  5. Belladonna – 200
  6. Rhus tox – 200

इन सभी दवाओं की 1-1 बूंद ले कर आधा कप पानी में डाले फिर हर 1 घंटे बाद उसमे से 1 चमच्च पानी डेंगू के मर्रिज को पिलाये| ये दवा मरीज की बॉडी में ब्लड की कमी भी पूरी कर देती है| ये दवा शुरू करने से पहले अपने आस पास के किसी होम्योपैथिक डॉक्टर से सलाह जरूर लें|

दोस्तों वैसे तो आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक इलाज के कोई साइड इफेक्ट्स नहीं होते फिर भी हम यही सलाह देते है की किसी भी बीमारी के इलाज के लिए अपने नजदीकी आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह जरूर ले|

हम आशा करते है की sehatdoctor के द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी और जिस भी परेशानी के नुस्खे आपने पढ़ें है उस परेशानी में भी आपको आराम प्राप्त हुआ होगा| किसी भी अन्य बीमारी या परेशानी के लिए हेल्थ टिप्स इन हिंदी ( health tips in hindi ) और घरेलु नुस्खे इन हिंदी ( gharelu nuskhe in hindi ) जरूर पढ़ें और लाभ प्राप्त करें| आपका अनुभव कैसा रहा इसकी जानकारी कमेंट करके जरूर बताए |

हम आशा करते है की sehatdoctor के द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी और जिस भी परेशानी के नुस्खे आपने पढ़ें है उस परेशानी में भी आपको आराम प्राप्त हुआ होगा| किसी भी अन्य बीमारी या परेशानी के लिए हेल्थ टिप्स इन हिंदी (health tips in hindi) और घरेलु नुस्खे इन हिंदी (gharelu nuskhe in hindi) जरूर पढ़ें और लाभ प्राप्त करें| आपका अनुभव कैसा रहा इसकी जानकारी कमेंट करके जरूर बताए |

Recent Articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Articles