दिल के दौरे का आयुर्वेदिक इलाज (heart attack ka upay)

Disease - बीमारीदिल के दौरे का आयुर्वेदिक इलाज (heart attack ka upay)

हार्ट अटैक का आयुर्वेदिक इलाज (heart attack ka upay) : जब दिल तक खून पहुँचाने में रुकावट आती है तब हार्ट अटैक (दिल का दौरा ) होने की सम्भावना होती है| अगर सही समय पर दिल की बीमारी का ट्रीटमेंट ना किया जाये तो ये जानलेवा भी हो सकती है| हार्ट अटैक की बीमारी का इलाज महंगा होने के कारण ये आम व्यक्ति की पहुँच से बाहर होता है और पैसो के अभाव में ये बीमारी जानलेवा हो जाती है| इससे पहले वाले लेख में हम जानेगे दिल का दौरा पड़ने से कैसे बचे और अगर दौरा पढ़ जाये तो घरेलू और आयुर्वेदिक तरीके से अपना उपचार कैसे करे|

हार्ट अटैक का आयुर्वेदिक इलाज से बिना एंजियोप्लास्टी के करीब 80 फीसदी हार्ट अटैक की संभावना को टाला जा सकता है| इससे दिल की दूसरी बीमारियां भी कम हो जाती है| दिल में खून सही मात्रा में नहीं पहुंचना हार्ट अटैक की संभावना को बढ़ा देता है ऐसे में हार्ट ब्लॉकेज को खोलने के लिए चिकनाई से पैदा होने वाले एसिड को खत्म किया जाता है| 

हार्ट अटैक का आयुर्वेदिक इलाज समय से कराना चाहिए नहीं तो यह जानलेवा साबित हो सकती है| दिल की बीमारियों का इलाज महंगा होता है इसलिए आम आदमी इसका खर्चा उठाने में सक्षम नहीं होता है| इलाज के लिए पैसे नहीं होने पर यह और भी जानलेवा होना लाजमी है| हार्ट अटैक के लिए आयुर्वेदिक उपाय मौजूद हैं जिससे इसका इलाज संभव है|

खासकर हार्ट अटैक की शिकायत बुजुर्गों को अधिक रहती हैं व अचानक किसी खुशी या किसी अधिक चिंता के कारण भी व्यक्ति को अचानक हार्ट अटैक आ जाता है| व्यक्ति को आमतौर पर  3 बार तक हार्ट अटैक आ सकता है जिसमे पहले व तीसरे अटैक में व्यक्ति की मृत्यु तक हो सकती हैं| Heart Attack se Bachne ke Upay in Hindi आपको आज हम कुछ आसान से तरीके बताने वाले हैं जिससे आप बहुत आसानी से Heart Attack की जानलेवा बीमारी से बच सकते हैं|

Jane Kaise Rakhe Khud Ko Fit Aur Active

हार्ट अटैक के लक्षण : Symptoms of Heart Attack

  • साँसे फूलना
  • ज्यादा पसीना आना
  • छाती में दर्द या जलन होना
  • उल्टी आना
  • चक्कर आना या बेहोश होना
  • जी मचलना और घबराहट होना
  • पेट दर्द होना

हार्ट अटैक के कारण ( Causes of Heart Attack )

  • एलोपैथी में डॉक्टर एंजियोप्लास्टी ट्रीटमेंट से इस बीमारी का इलाज करते है | और हार्ट की प्रोब्लेम्स से बचाव के लिए डॉक्टर हार्ट की सर्जरी करवाने की सलाह देते है| जिससे हम हार्ट बाईपास ट्रीटमेंट भी कहते है जिसमे 5 लाख तक का खर्चा आ जाता है|हार्ट बाईपास सर्जरी में ब्लॉकेज वाली नली में स्प्रिंग डाल दिए जाते है जिसे स्टंट भी कहते है| पर एंजियोप्लास्टी के बाद भी रोगी को दोबारा हार्ट अटैक होने का खतरा बना रहता है |लेकिन हार्ट अटैक का आयुर्वेदिक इलाज से आप किसी भी बीमारी का पूरा इलाज कर सकते है|
    Jane Cholesterol Kam Karne Ke Upay

हार्ट अटैक का आयुर्वेदिक इलाज : दिल का दौरा रोकने के उपाय

  • योग, आयुर्वेद और कुछ घरेलु नुस्खे अपना कर आप बिना एंजियोप्लास्टी और ऑपरेशन के 80 से 90% तक की हार्ट ब्लॉकेज खोल सकते है और हार्ट की दूसरी बीमारियों का ट्रीटमेंट भी घर बैठे कर सकते है | दिल का दौरा रोकने के लिए आयुर्वेद में काफी आसान तरीके है जो काफी कारगर है|
  • राजीव दीक्षित का बताया हुआ आयुर्वेदिक उपचार : हार्ट की ब्लॉकेज को खत्म करने के लिए आयुर्वेद चिकनाई से पैदा हुए अम्ल (एसिड ) को खत्म कर देता है जिससे हार्ट की बिमारी  जड़ से खत्म हो जाती है| दिल की बीमारिया एसिडिटी (अमलता ) के कारण होती है| 
  • अम्लता 2 प्रकार की हो सकती है पहली वो जो पेट से सम्बंधित होती है और दूसरी अम्लता खून यानी ब्लड की होती है| जब पेट की एसिडिटी बढ़ती है तब पेट में जलन महसूस होती है और ये एसिडिटी जब ज्यादा बढ़ती है तब ये हाइपरसिटी हो जाती है और पेट की एसिडिटी बढ़ते बढ़ते ब्लड एसिडिटी में बदल जाती है|
  • जब ये अम्लीय ब्लड खून की नालियों से नहीं निकल पता तब रक्त परवाह करने वाली नलियों में ब्लॉकेज हो जाती है जो हार्ट अटैक का कारण बनती है |

हार्ट अटैक का आयुर्वेदिक इलाज में ब्लड की अमलता को खत्म करने के लिए शारिया (एल्कलाइन ) चीजे खाने की सलाह दी जाती है| शारिया चीजे खाने से रक्त में बढ़ी हुई अमलता न्यूट्रल हो जाती है और ब्लॉकेज खुल जाती है| आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट अपना कर हम दिल का दौरा पड़ने की सम्भावना खत्म कर सकते है|

  1. लौकी सबसे ज्यादा शायरियाँ होती है | लौकी की सब्जी, लौकी का जूस या फिर कच्ची लौकी खाने से भी फायदा मिलता है| (लौकी कड़वी नहीं होनी चाहिए)
  2. तुलसी भी बहुत शायरियाँ है और इसे हम लौकी के जूस में मिलाकर भी पी सकते है|
  3. पुदीना (मिंट ) में भी शायरियां गुण होते है| पुदीना और तुलसी को हम लौकी के साथ मिलाकर लौकी के जूस को ज्यादा शायरियाँ बना सकते है और इसमें हम सेंधा नमक भी मिला सकते है|

हार्ट प्रॉब्लम के इलाज के लिए योगा टिप्स

  • हार्ट की किसी भी तरह की कोई बीमारी हो योग गुरु बाबा रामदेव के बताए हुए योग के प्राणायाम धीरे -धीरे करे | नीचे बताए हुए 5 तरीके के प्राणायाम करने से हार्ट परेशानी में बहुत लाभ मिलता है:
  1. भस्त्रिका प्राणायाम
  2. कपालभाति  प्राणायाम
  3. अनुलोम-विलोम  प्राणायाम
  4. भ्रामरी  प्राणायाम
  5. उद्गीथ प्राणायाम

हार्ट अटैक के इलाज के लिए बाबा रामदेव मेडिसिन

  1. दिव्या अर्जुन क्वथ 4-4 चमच खाने के बाद पिए.
  2. दिव्या हृदयामृत 2-2 गोली सुबह शाम.
  3. हार्ट की प्रॉब्लम सीरियस हो गयी है तो 5-5 गरम दिव्या सांगेयासाव पिष्टी, दिव्या एकिक पिष्टी, 2 से 4 गरम दिव्या मोती (मुक्त ) पिष्टी और 1 से 2 ग्राम योगेंदर रस मिलाकर एक मिश्रण बना ले और बराबर मात्रा में 60 पुड़िया बना ले और सुबह शाम खाली पेट 1-1 पुड़िया शहद के साथ ले

एक्यूप्रेशर से हार्ट अटैक का इलाज :

  • हाथ की सब से छोटी उंगली के नीचे गहरी रेखा के ऊपर दबाने से सभी प्रकार की हृदय के रोग (चेस्ट इन्फेक्शन, हार्ट पैन, हार्ट फेलियर, हार्ट बीट बढ़ जाना, हार्ट ब्लॉकेज, हार्ट एंलार्ज, कार्डियोवैस्कुलर डिसीसेस ) में फायदा मिलता है |

हार्ट अटैक (दिल का दौरा ) से बचने के घरेलू उपाय

हार्ट अटैक और दिल की बीमारियों से हर साल लाखों लोगों की मौत होती है | हमारे डेली रूटीन में कुछ उपाय और घरेलु नुस्खे अपनाकर हम हार्ट की बीमारियों से बचे रह सकते है और जरुरत पड़ने पर इनका इलाज भी कर सकते है|

  1. अर्जुन छाल हार्ट की सभी डिसीसेस के लिए उत्तम औषधि है| अर्जुन छाल की चाय बनाकर पीने से बहुत फायदा मिलता है|
  2. रोजाना दलिया (ओट्स ) खाने से हार्ट की प्रोब्लेम्स होने का खतरा काफी कम होता है, क्योंकि दलिये में साबुत अनाज होता है
  3. शहद दिल को ताकत देता है , इसलिए रोजाना 1 चम्मच शहद का सेवन जरूर करें|
  4. सूखा आवला और मिश्री को बराबर मात्रा में पीस कर हर रोज पानी के साथ 1 चमच्च लेने से दिल का दौरा पड़ने की सम्भावना कम होती है|
  5. खाने में अलसी के तेल का प्रयोग करें | अलसी में ओमेगा-3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में होता है जिससे दिल मजबूत होता है |
  6. गुड़ को घी में मिला कर रोजाना खाने से दिल को ताकत मिलती है|
  7. अलसी के पत्ते और सूखे धनिया का काढ़ा बना कर पीने से भी दिल की कमजोरी दूर होती है|
  8. बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल दिल से जुड़ी बीमारियों का सबसे बड़ा कारण है | अपने खाने में लहसुन (garlic) को शामिल करके आप कोलेस्ट्रॉल लेवल को कंट्रोल कर सकते हैं| लहसुन में एलिसिन नामक एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है जो न केवल कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने का काम करता है बल्कि ब्लड प्रेशर को भी कंट्रोल करता है. ऐसे में लहसुन खाना दिल से जुड़ी बीमारियों से दूर रहने का कारगर उपाय है|
  9. मछली का सेवन स्वास्थ्य के लिए कई तरह से लाभदायक होता हैं व आखो की रोशनी के लिए भी मछली बहुत लाभदायक होती हैं आप मछली के सेवन से दिल से संबंधित कई तरह की बीमारियों से बचे रह सकते हैं दिल के रोगी को सप्ताह में एक बार मछली का सेवन जरूर करना चाहिए ये दिल के दौरे से बचने के लिए काफी लाभदायक होती हैं|
  10. धूम्रपान के नुकसान से तो लगभग सभी लोग परिचित होने पर फिर भी लोग इसकी जानलेवा बीमारियों को नजरअंदाज कर देते हैं पर अगर हम बात करे दिल के मरीज की तो धूम्रपान दिल के मरीज के लिए पूर्णतया जहर के समान ही हैं धूम्रपान से दिल व फेफड़ों पर काफी बुरा प्रभाव पड़ता हैं जिससे दिल का दौरा पड़ने की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती हैं इसलिए दिल के रोगी को जल्द ही सभी के धूम्रपान को छोड देना ही बेहतर है|

किसी भी बीमारी के इलाज से बेहतर है आप उससे बचे , इसलिए ऐसे खान पान से दूर रहे जो किसी बीमारी का कारण बनती है |

हम आशा करते है की sehatdoctor के द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी और जिस भी परेशानी के नुस्खे आपने पढ़ें है उस परेशानी में भी आपको आराम प्राप्त हुआ होगा| किसी भी अन्य बीमारी या परेशानी के लिए हेल्थ टिप्स इन हिंदी (health tips in hindi) और घरेलु नुस्खे इन हिंदी (gharelu nuskhe in hindi) जरूर पढ़ें और लाभ प्राप्त करें| आपका अनुभव कैसा रहा इसकी जानकारी कमेंट करके जरूर बताए |

Recent Articles

16 COMMENTS

  1. Sir apne acchi jankari di hai is se hame pata jala hai ki kya Kya upya hai, sir ap bahut accha kar rahi hai allha, Bhagwaan ap ka bhala karega,Thank You very much……….

  2. Sir mere husband ki umr 28 Saal h aur unhe attack aa gaya h.mujhe yaha s achhi jankari mili h. thank u Sir. kyunki mujhe apne husband ki bahut tention hoti h .

  3. महाशय,
    मेरा नाम बासुदेव महतो है| मै 16 वर्ष का हुँ| मुझे आपलोगो से दो प्रश्नो का उत्तर जानना है 1)मैं कभी-कभी जब लम्बी स्वास लेता हु तो मेरे सिने के बाई ओर दर्द करने लगता है,तो क्या ये दिल का दौरा है या कभी पड सकता है| 2)इसका ईलाज क्या है? यदी ईलाज हो या कोई आयुर्वेदिक सलाह हो तो हमे मेरे ईमेल पर मेल कर दे|

    • Vasudev ji kya ye dil ka daura ke lakshan hai ya kuch aur ye to doctor checkup kar ke bta sakenge, aap doctor se consult kare taki samasya ke karnao ka pta chal sake tabhi iska upchar sahi tarike se kar sakenge.

  4. Mere papa ko heart blokage ki shikayat h or ab unhe kafi problem hoti h sans lene pls mujhe blokage km krne ya khatm krne k upay btaye.

  5. Aaknho ka motiaya bind ka oppression karwane hai jab ki muje heart ka problem hai Kay opprestion ke bad heart ke dawa me name Marne parts hai

  6. Mujhe left ventricular hypertrophy means LVH h, mai kon si dawa khau ki heart ka size or mussels majbut h. Kaya thik hota h

  7. Sir mere pet mai kide hai or gas bhut banti hai or pet saaf nahi rehta ab to mujhe lagta hai ki pet ki Saadi bimari mujhe hi hai bataye kya karu

  8. Sir main 22yrs ki hi. And pIchhale 7 month se mild valve regurgitation prolapse so picky hi. So sir tell me any aurvedic complete treatment.

  9. Sir mujhe chest me kabhi kabhi pakar jesa dard hota hai aur main parshan ho jata hu ye hoke phir khatam ho jata hai kya ye heart ka problem hai sir mujhe btaye ya medicine ho to main khau.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Articles