दृष्टिवैषम्य के कारण क्या हैं

Eye Health - आँखों की सेहतAstigmatism - दृष्टिवैषम्यदृष्टिवैषम्य के कारण क्या हैं

दृष्टिवैषम्य की परेशानी बच्चो में ज्यादा पाई जाती है, कई बार अनुवांशिकता की वजह से भी आँखों में दृष्टिवैषम्य की परेशानी हो सकती है। आँखों में तनाव पड़ने की स्थिति में भी दृष्टिवैषम्य की बीमारी हो सकती है। इसीलिए इस परेशानी से बचने के लिए हमे आँखों पर तनाव कम देना चाहिए। बहुत से इंसान दृष्टिवैषम्य की बीमारी का पता चलने के बाद भी उसका इलाज डॉक्टर से नहीं करवाते है, बल्कि अपनी मर्जी से इलाज करने लगते है और वो मेडिकल से दवाई लेकर अपनी आँखों में डाल लेते है, जिसकी वजह से परेशानी काफी बढ़ जाती है, अंत में उन्हें अपनी आँखों की रौशनी भी खोनी पढ़ सकती है। चलिए आज हम आपको कुछ ऐसी जानकारी देते है, जिनके इस्तेमाल से आप अपनी आँख पर पड़ने वाले तनाव से राहत पा सकते है –

1 – बहुत से बच्चे मोबाइल, कंप्यूटर का उपयोग बहुत लंबे समय तक करते है, जिसकी वजह से उनकी आँख में परेशानी होने लगती है, कई बार इस परेशानी की वजह से काफी नुक्सान भी उठाना पढ़ सकता है।

2 – कभी भी किसी भी इंसान को खराब या कम प्रकाश में पढ़ना या कोई भी बारीकी वाला काम नहीं करना चाहिए, अगर ऐसा करते है तो आपकी आँखों पर बहुत ज्यादा जोर पड़ता है, जिसकी वजह से कई बार आपकी आँखों में दृष्टिवैषम्य की परेशानी हो सकती है।

3 – हम सभी को पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए। बहुत से लोग दिनभर में बहुत कम पानी पीते है, जिसकी वजह से उनके पेट और शरीर में बहुत सारी कमी हो जाती है, जिसकी वजह से भी आपकी आँखों में दृष्टिवैषम्य की बीमारी हो सकती है। इसीलिए परेशानी से बचने के लिए हम सभी को कम से कम 8 से 10 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए।

4 – आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में खाने पीने की अनियमितता बहुत ज्यादा हो गई है। इसीलिए हम सभी को आँखों और शरीर के लिए विटामिन्स से भरपूर भोजन का सेवन करना चाहिए।

हम आशा करते है की sehatdoctor के द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी और जिस भी परेशानी के नुस्खे आपने पढ़ें है उस परेशानी में भी आपको आराम प्राप्त हुआ होगा| किसी भी अन्य बीमारी या परेशानी के लिए हेल्थ टिप्स इन हिंदी (health tips in hindi) और घरेलु नुस्खे इन हिंदी (gharelu nuskhe in hindi) जरूर पढ़ें और लाभ प्राप्त करें| आपका अनुभव कैसा रहा इसकी जानकारी कमेंट करके जरूर बताए |

Recent Articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Articles