फुंसी क्या है? फुंसी के प्रकार, इलाज और फुंसी को रोकने के लिए गाइड

Beauty Tips - ब्यूटी टिप्स फुंसी क्या है? फुंसी के प्रकार, इलाज और फुंसी को रोकने के...

पिंपल्स जिन्हे हम कील-मुंहासे के नाम से भी जानते है| पिंपल्स ज्यादातर चेहरे पर ही निकलते है लेकिन अगर सही समय पर इसकी रोकथाम और इलाज ना किया जाये तो ये शरीर के अन्य हिस्सों जैसे हाथ,पैर,पीठ इत्यादि जगहों पर भी हो सकते है| पिंपल्स कई प्रकार के होते है,इसमें पहले छोटे छोटे डेन निकलते है,धीरे धीरे वो बड़े हो जाते है और उनमे पस,कील इत्यादि पड़ जाते है| कुछ लोग पिंपल्स को शुरू में ही फोड़ देते है,जिससे बाद में उनके चेहरे पर काले काले धब्बे पड़ जाते है| चलिए आज हम आपको पिंपल्स के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी देते है |

पिंपल्स कितने प्रकार के होते है?

फुंसी या दाना पिंपल्स – इस तरह के पिंपल्स सबसे ज्यादा देखने को मिलते है| इसमें छोटे और बड़े दोनों प्रकार के दाने त्वचा में हो जाते है,जिसमे बाद में पास भी पड़ जाता है| इनमे दर्द भी काफी महसूस होता है|

नोड्यूल्स पिंपल्स – नोड्यूल्स पिंपल्स बहुत काम ही देखने को मिलते है,ये पिंपल्स त्वचा में बहार की और न होकर अंदर की तरफ होते है| नोड्यूल्स पिंपल्स दूसरे पिंपल्स के मुकाबले बड़े और ज्यादा दर्द वाले होते है|

सिस्ट या गांठ पिंपल्स – ऐसे पिंपल्स सबसे खतरनाक होते है,इनमे शुरू में छोटे छोटे दाने होते है लेकिन बाद में वो गांठ का रूप ले लेते है| ऐसे पिंपल्स होने पर तुरंत डॉक्टर से इलाज कराना जरुरी होता है|

पिंपल्स की रोकथाम कैसे करे ?

पिंपल्स पर अगर आप शुरुआत से ही ध्यान नहीं देते है तो ये आपके चेहरे की सुंदरता को बिगाड़ सकते है| इसीलिए पिंपल्स का सही समय पर इलाज बहुत जरुरी है,जिसकी शुरुआत आप घर से ही कर सकते है| सबसे पहले आपको अपने खाने पीने पर ध्यान देना चाहिए और ज्यादा घी, तेल, मसालों ,ज्यादा मीठा, चाय-कॉफी का उपयोग बिलकुल बंद कर देना चाहिए और जितना हो सके अधिक से अधिक पानी पिए| पिंपल्स को फोड़े नहीं ऐसा करने से पिंपल्स और अधिक निकलने लगते है| ऐसा करने से आप अपने चेहरे पर होने वाले पिंपल्स की रोकथाम कर सकते है| धूप में ज्यादा देर तक रहने से भी पिंपल्स हो जाते है इसीलिए जितना आप धूप से बच सकते है बचने की कोशिश करे|

पिंपल्स का इलाज कैसे करे ?

पिंपल्स का इलाज आप देसी और घरेलु नुस्खे से आसानी से कर सकते है|

1- आपको पहले थोड़ी सी दही लेनी है, उसके बाद उसमे हल्दी,शहद और गुलाबजल को मिलाकर एक पेस्ट बना ले,फिर इसे चेहरे पर लगा ले, 15 से 20 मिनट लगा रहने दे और उसके बाद ठन्डे पानी से चेहरा धो ले, इस पेस्ट को हफ्ते में एक बार जरूर लगाए, इससे आपको काफी फायदा मिलेगा|

2- सबसे पहले मसूर की दाल ले और उसे रात भर भिगो कर रख दे, उसके बाद उसे महीन पीस कर उसमे से 2 चम्मच दाल पॉउडर लेकर उसमे थोड़ी सी हल्दी, थोड़ा सा निम्बू का रस और उसमे थोड़ी सी दही मिलाकर उसका पेस्ट बना ले और चेहरे पर लगा ले|जब पेस्ट सुख जाए तो ठन्डे पानी से चेहरा धो ले, ऐसा करने से भी आपको पिंपल्स में काफी आराम मिलेगा|

3- एक चम्मच जैतून का तेल ले और उसमे 2 से 3 बूँद टी ट्री ऑयल की मिला ले,दोनों को अच्छे से मिलाकर पिंपल्स पर लगाने से भी आपको काफी अच्छा परिणाम देखने को मिलेगा|

4- थोड़ा सा बेकिंग सोडा लेकर उसमे थोड़ा सा पानी डालकर पेस्ट बना ले,फिर इस पेस्ट को पिंपल्स पर लगाए,बेकिंग सोडा आपकी त्वचा में पीएच को सही करता है,इसे 3 मिनट लगाने के बाद पानी से धो ले,आपको पिंपल्स में काफी आराम मिलेगा|

5- थोड़ा सा शहद लेकर पिंपल्स पर लगाए और 25 से 30 मिनट तक लगे रहने दे,उसके बाद पानी से चेहरा धो ले,शहद में प्राकृतिक एंटीबायोटिक होते है जो पिंपल्स को खत्म करते है|

Recent Articles

कैसे दृष्टिवैषम्य होने से रोका जा सकता है

दृष्टिवैषम्य को हम एस्टिग्मेटिज़्म के नाम से भी जानते है, दृष्टिवैषम्य की परेशानी आम है, लेकिन अगर आप लापरवाही करते है तो कई बार...

दृष्टिवैषम्य का निदान कैसे करें

दृष्टिवैषम्य की परेशानी का निवारण उसकी जाँच के बाद ही अच्छी तरह से हो सकता है, इसके लिए जब आप नेत्र चिकित्सक के पास...

दृष्टिवैषम्य के लिए उपचार क्या है

आँखों की जाँच करने के बाद ही पता चलता है की बीमारी कितनी गंभीर है। नेत्र चिकित्सक बीमारी की गंभीरता को देखते हुए आपकी...

दृष्टिवैषम्य के साथ जुड़े जोखिम और जटिलताएं क्या हैं

आँखे बहुत नाजुक होने के साथ साथ हम सभी के लिए महत्वपूर्ण होती है, दृष्टिवैषम्य आँखों में होने वाली एक आम परेशानी है। अगर...

दृष्टिवैषम्य के कारण क्या हैं

दृष्टिवैषम्य की परेशानी बच्चो में ज्यादा पाई जाती है, कई बार अनुवांशिकता की वजह से भी आँखों में दृष्टिवैषम्य की परेशानी हो सकती है।...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nine − 7 =