प्रेगनेंसी के इलावा पीरियड्स लेट होने के कारण – Late Periods in Hindi

Periods - पीरियड्सप्रेगनेंसी के इलावा पीरियड्स लेट होने के कारण - Late Periods in...

पीरियड्स लेट होने के कारण इन हिंदी: पीरियड को हम मासिक धर्म, माहवारी और mc के नाम से भी जानते है। पीरियड्स संबंधी अनियमितता महिलाओं में एक आम समस्या है। पीरियड लेट होने, जल्दी आना, period miss होना या फिर बंद हो जाना, इसके कई कारण हो सकते है। 

पीरियड्स होना जितना दर्दनाक होता है, उनका न होना या लेट हो जाना हमारे लिए उससे ज्यादा चिंता का विषय होता है।कई बार इसके कारण भी पता नहीं होते, कि आखिर क्यों माहवारी में देरी हो रही है | तनाव आपके स्वास्थ्य का सबके बड़ा दुश्मन है। तनाव आपके हार्मोनल संतुलन को बिगाड़ सकता है जिससे आपके पीरियड्स लेट हो सकते हैं।

पीरियड ना आने और मिस होने की स्थिति में महिलाओं के मन में सबसे पहले प्रेगनेंसी का ख्याल आता है की कहीं वो गर्भवती तो नहीं। आज इस लेख में हम जानेंगे प्रेगनेंसी के अलावा मासिक धर्म में देरी के कारण क्या है और शादी (मैरिज) के बाद पीरियड्स प्रॉब्लम की वजह और उपाय। आइये जानें पीरियड्स ना आने के कारण क्या है, reasons for late periods, missed periods and irregular periods problem in hindi.

पीरियड आने में देरी होने पर महिलाओं में तनाव बढ़ने लगता है और वे पीरियड्स लाने के लिए tablet लेने लगती है और कुछ महिलाएं मासिक धर्म को नियमित करने के लिए घरेलू नुस्खे से इलाज करने लगती है। इस लेख के माध्यम से हम आप को ये बताना चाहते हैं कि पीरियड बंद होने या फिर late होने पर घबराने की जरूरत नहीं है। प्रेगनेंसी के इलावा पीरियड्स देरी होने के कुछ सामान्य कारण भी हो सकते है।

पीरियड्स लेट होने के कारण : अनियमित मासिक धर्म

Reasons for Late Periods in Hindi

एक सामान्य women और girl का मासिक धर्म चक्र 28 days का होता है पर ये जरुरी नहीं है की ये सबके लिए एक जैसा हो। कुछ महिलाओं का मासिक चक्र 18 से 35 दिनों तक का भी होता है| पीरियड लेट या मिस होने के कुछ कारण यहां बताये जा रहे है| इन्हें पढ़ने के बाद आप को अपने पीरियड्स में देरी के कारण का अंदाजा लग जाएगा फिर आप घरेलू नुस्खे से लेट पीरियड्स का सलूशन कर सकते है।

  1. अगर आपके पीरियड्स हाल ही में शुरू हुए है तो आपको मासिक धर्म में देरी होने पर घबराने की आवश्यकता नहीं है। कुछ girls को शुरू शुरू में अनियमित मासिक धर्म की समस्या होती है जो धीरे धीरे ठीक हो जाती है।

 2.पीरियड्स लेट होने के कारण वजन का बढ़ना भी है। मोटापा बढ़ने के कारण शरीर में हार्मोन्स सही तरीके      से          कार्य नहीं कर पाते जिससे पीरियड्स ना आना या लेट होना जैसी समस्या आने लगती है।

  • इससे बचने के लिए जरुरी है की आप एक हेल्थी लाइफस्टाइल अपनाये और अच्छी डाइट, एक्सरसाइज, योग के द्वारा अपना वजन कंट्रोल में रखे।

 3. कुछ महिलाएं तेजी से अपना weight loss करने के लिए डाइटिंग करती है और सब कुछ खाना पीना छोड़ देती है       जिस कारण उनकी बॉडी को जरुरी पोषण नहीं मिल पाता। इसे हम ईटिंग डिसऑर्डर भी कहते है।

  • जरुरी पोषक तत्व न मिलने का बुरा असर मासिक धर्म चक्र पर पड़ता है जिससे period late या मिस होने की समस्या आने लगती है।

 4. वजन का सामान्य से कम होना भी periods problem के लिए जिम्मेदार है। कुछ महिलाओं और लड़कियों का      शरीर दुबला पतला होता है जिससे उनके शरीर में प्रयाप्त मात्रा में एस्ट्रोजन नहीं बनता जिस कारण अनियमित            माहवारी के लक्षण दिखने लगते है।

  • अपना वजन बढ़ा कर आप पीरियड्स की समस्या दूर कर सकते है।

 5. पीरियड्स लेट होने के कारण: कुछ लड़कियां फिट बॉडी पाने के लिए जरुरत से ज्यादा एक्सरसाइज       करती है। ऐसी लड़कियों में एम सी लेट या मिस होने की समस्या अधिक होती है।

  • कुछ महिलाओं के पीरियड्स पूरा साल बंद रहते है और ऐसा जरुरत से ज़्यादा एक्सरसाइज करने से होता है।

 6. MC ना होना या लेट आना और अन्य पीरियड्स प्रॉब्लम का एक कारण पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) भी       है। ये एक डॉक्टरी समस्या है जिससे ज़्यादा वजन वाली महिलाएं अधिक प्रभावित होती है। इससे शुगर, बच्चा ना         होना और दिल के रोग भी हो सकते है।

 7. थायराइड का रोग भी मासिक चक्र को प्रभावित करता है जिस वजह से MC delay या मिस होने की समस्या होने         लगती है। अगर आपको thyroid है तो समय समय पर इसकी जाँच करें और इसे ठीक करने के लिए इलाज भी           करे।

 8. अकसर कुछ महिला खिलाडी और डांसर अपनी परफॉरमेंस और स्टैमिना बढ़ाने के लिए काफी ज़्यादा प्रैक्टिस करती       हैं जिसका बुरा असर उनके एस्ट्रोजन हार्मोन्स पर पड़ता है जिससे periods miss होने की समस्या आने लगती       है।

  • अच्छी डाइट ले कर और कुछ दिन आराम करके आप फिर से अपने पीरियड्स नॉर्मल कर सकते है।

9.  कुछ शारीरिक रोगों का इलाज लंबे समय तक चलता है जिसमें कई तरह की medicine खानी पड़ती है और ऐसे में      पीरियड्स देरी से आने की समस्या आम है। एक बार रोग का इलाज हो जाने के बाद period normal होने लगते है।

10. अचानक से दिनचर्या में बदलाव आने से भी masik dharam प्रभावित होते है। जैसे की कुछ कामकाजी                 महिलाओं को रात में ड्यूटी करनी पड़ जाये तो उनका सोने, जागने और दूसरे सभी काम करने का समय बदल             जाता है, इसके इलावा परीक्षा की त्यारी कर रही लड़कियों का सोने जागने का समय अचानक से बदल जाता है             जिसका असर मासिक धर्म चक्र पर पड़ता है।

शादी के बाद पीरियड्स ना आने के कारण: Reason for late periods after marriage in hindi

शादी के बाद महिला की पारिवारिक जिम्मेदारी तो बढ़ती ही है पर साथ में शारीरक और मानसिक बदलाव भी होते है जिससे महिला के शरीर में हार्मोन्स का संतुलन बिगड़ने लगता है और irregular periods की समस्या आने लगती है पर इसमें चिंता की कोई बात नहीं। Marriage के बाद हार्मोन्स में बदलाव आना सामान्य है और ऐसे में जरुरी है की समय समय पर डॉक्टर की सलाह लेते रहे।

  1. शादी के बाद पीरियड लेट या मिस होने का पहला कारण है प्रेग्नेंट होना। अगर आपने हाल ही में शारीरिक संबंध बनाये है तो सबसे पहले प्रेगनेंसी जांच किट से अपने गर्भवती होने की पुष्टि करें।
  2. Irregular periods after marriage in hindi, मैरिज के बाद अक्सर महिलाएं गर्भनिरोधक टेबलेट का सेवन करती रहती है। गर्भनिरोधक दवाओं के अधिक सेवन का बुरा असर मासिक धर्म के चक्र पर पड़ता है। अगर गर्भनिरोधक tablet खाने से आपको माहवारी ना आना की समस्या आ रही है तो अपने डॉक्टर से मिलकर बात करे।
  3. पीरियड्स लेट होने के कारण स्तनपान भी हो सकता है। स्तनपान की वजह से भी कुछ महिलाओं में mc late होने या ना होने की शिकायत होती है क्योंकि इस दौरान माँ के शरीर में हार्मोन में बदलाव आता है। स्तनपान बंद होने पर पीरियड फिर से नार्मल होने लगेंगे।

मासिक धर्म में देरी के अन्य कारण इन हिंदी

  • मानसिक तनाव का बुरा असर body में हार्मोन्स पर पड़ता है जिससे हार्मोन का संतुलन बिगड़ने लगता है और पीरियड्स ना आने या लेट आने की परेशानी आती है। इसके उपाय के लिए खुद को तनाव मुक्त रखे।
  • सफर करने का असर खान पान, दैनिक कार्य और नींद पर पड़ता है जिससे पीरियड्स लेट हो सकते है। अच्छी नींद और डाइट से इसे फिर से normal कर सकते है।
  • धूम्रपान करने और शराब के सेवन से भी मासिक धर्म अनियमित होने लगते है इसलिए किसी भी तरीके के नशे से दूर रहे।
  • माहवारी देरी से आने के कारण पता चलने के बाद आप उसका उपचार gharelu upay और दवा से कर सकते है और ट्रीटमेंट करने के बाद भी पीरियड ना आने पर डॉक्टर से मिल कर बात करे।

आज इस लेख में हमने mc ना होने या लेट आने के कारण जाने है। पीरियड्स लेट होने के कारण, Reasons for late periods problem in hindi का ये लेख आपको कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास पीरियड देरी से आने और अनियमित मासिक धर्म के कारण से जुड़े कुछ अन्य अनुभव है तो हमारे साथ शेयर करे।

हम आशा करते है की sehatdoctor के द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी और जिस भी परेशानी के नुस्खे आपने पढ़ें है उस परेशानी में भी आपको आराम प्राप्त हुआ होगा| किसी भी अन्य बीमारी या परेशानी के लिए हेल्थ टिप्स इन हिंदी (health tips in hindi) और घरेलु नुस्खे इन हिंदी (gharelu nuskhe in hindi) जरूर पढ़ें और लाभ प्राप्त करें| आपका अनुभव कैसा रहा इसकी जानकारी कमेंट करके जरूर बताए |

Recent Articles

72 टिप्पणी

  1. सर मेरी बीवी प्रेग्नेंट नहीं है फिर भी 2 महीने हो गए एम सी नहीं आई है काफी परेशान है सर.

  2. 10 पीरियड लेट हो गया प्रेगनेंसी टेस्ट निगेटिव आ रहा है इसे हम क्या समझे.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Articles