प्रेगनेंसी में कितना और कैसे सोना चाहिए सोने का सही तरीका

Pregnancy - गर्भावस्थाप्रेगनेंसी में कितना और कैसे सोना चाहिए सोने का सही तरीका

प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए सोने का सही तरीका इन हिंदी: प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला को अपना और गर्भ में पल रहे बच्चे का खास ध्यान रखना होता है जिसके लिए सबसे अहम है खाने पीने का ख्याल रखना, जरूरी आराम करना व प्रेग्नेंट लेडी को कैसे बैठना सोना और रहना चाहिए इसकी जानकारी होना। महिला को आराम तभी मिल सकता है जब वो अच्छी नींद सोए। इससे बच्चा और महिला दोनों स्वस्थ रहते है पर गर्भावस्था में कुछ महिलाएं ऐसी छोटी छोटी गलतियां कर देती है जो माँ और बेबी के लिए हानिकारक होती है। 

गर्भावस्था ऐसा समय होता है, जब शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं। इन नौ महीनों में गर्भ में पल रहे शिशु को तेजी से विकास होता है, जिस कारण गर्भवती को थकान, जी-मिचलाना, बेचैनी व शरीर में दर्द जैसी कई शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। गर्भवती महिला को ठीक तरह से सोने में भी परेशानी होती है।

महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान अक्सर सबसे अधिक कठिनाई का अनुभव सोने में ही होता है। सामान्यतः गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण इसके कारण होते हैं, और इन्हें समझने से आपको अपनी नींद को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने में मदद मिल सकती है। आपकी नींद के पैटर्न में बदलाव के मुख्य कारण निम्नलिखित हैं|

प्रेगनेंसी में महिला को अपने सोने के तरीके को बदलना जरूरी होता है। अगर सोने की पोजीशन सही हो तो बच्चे और महिला के लिए अच्छा होता है। आज इस लेख में हम जानेंगे 1 मंथ से 9 मंथ तक की प्रेगनेंसी में किस तरफ व कितना सोना चाहिए, प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए ,pregnancy sleeping position in hindi.

प्रेगनेंसी में कितना सोना चाहिए

  • गर्भवती महिला के लिए 6 से 8 घंटे की गहरी नींद जरूरी होती है।
  • 1 से 3 मंथ में गर्भवती महिला को ज्यादा नींद चाहिए होती है पर इस दौरान महिला को रात में ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ सकता है जैसे बार बार पेशाब करने जाना।
  • 3 से 6 मंथ में महिला की नींद में सुधार आता है।
  • पर जैसे जैसे महिला 9 महीने की तरफ बढ़ती है पेट का आकार बढ़ने की वजह से सोने में फिर से दिक्कत आने लगती है जैसे सीने में जलन होना।

प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए सही तरीका

Pregnancy Me Sone Ka Sahi Tarika in Hindi

प्रेगनेंसी के दौरान महिला के शरीर में कई प्रकार के बदलाव आते है इसलिए महिला को आराम की जरुरत होती है। पेट का आकार बढ़ने के बाद ठीक से सोना मुश्किल होता है ऐसे अगर महिला सही तरीके से ना सोये तो माँ और बच्चे को दिक्कत हो सकती है और बच्चे का विकास ठीक से नहीं हो पाता।

  1. पीठ के बल न सोएं
  • प्रेगनेंसी के एक महीने से तीसरे महीने तक गर्भवती महिला पीठ के बल सो सकती है। शुरुआत के दिनों में महिला का सीधा सोना अच्छा है।
  • पर जैसे जैसे पेट बढ़ने लगता है पीठ के बल सोने से कई शारीरिक समस्याएं हो सकती है। 3 से 9 मंथ में पीठ के बल लेटना ठीक नहीं है।
  • गर्भावस्था के 6 से 9 महीने में पीठ के बल लेटने से गर्भ का पूरा भार सीधे पीठ पर पड़ता है जिस कारण पीठ दर्द करने लगती है।
  • इस दौरान पीठ के बल लेटने की जगह दांई तरफ सोना थोड़ा अच्छा है पर सबसे अच्छा होता है बांई तरफ सोना।
  • दाईं तरफ सोने से भी बचना चाहिए। दाईं करवट सोने से लिवर पर दबाव पड़ता है।
  1. बाईं तरफ सोएं
  • प्रेगनेंसी में सोने का सही तरीका है बाईं तरफ सोएं। अगर बाईं तरफ सोने में कुछ परेशानी हो तो दोनों टांगों के बीच में तकिया रख ले।
  • बाईं तरफ करवट लेकर सोने से गर्भ और किडनी तक खून का प्रवाह ठीक से हो पाता है और कमर में दर्द की शिकायत भी नहीं होती।
  • इससे ब्लड प्रेशर कंट्रोल रहता है और बच्चे का विकास के लिए पोषण व ऑक्सीजन मिलता है।
  1. पेट के बल कभी नहीं सोना चाहिए
  • प्रेग्नेंट लेडी को पेट के बल नहीं सोना चाहिए इससे बच्चे और माँ दोनों को नुकसान हो सकता है।
  • पेट बल सोने से बेबी की पोजीशन बदलने की संभावना अधिक होती है और डिलीवरी के समय परेशानी आ सकती है।
  • प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए अगर पेट के बल हो तो पेट में दर्द और सूजन जैसी समस्या आ सकती है।

4.तकिया रखकर सोना 

  • अगर आपने सोने की इन सभी अलग-अलग मुद्राओं को आजमा लिया है फिर भी आपको अभी तक आराम नहीं मिला है, तो यह तकिया लेकर सोने का समय हो सकता है। अपने पैरों को मोड़कर करवट की मुद्रा में लेट जाएं और अपने घुटनों के बीच में एक तकिया रख लें। आप इसके साथ ही अपने पेट को भी एक तकिये से सहारा दे सकती हैं और देख सकती हैं कि क्या यह आपके लिए काम करता है।

5. गर्भावस्था मे आप बाईं तरफ मुंह और अपने घुटनो को मोड़कर सो सकते हैं

  • इस अवस्था मे आपको बहुत तकलीफ़ तो होगी लेकिन अगर आप चाहते है की आपका शिशु स्वस्थ और निरोगी रहे तो आपको ये तो करना ही होगा। आप चाहे तो आप अपने दोनो टाँगो के बीच तकिये का इस्तेमाल कर सकती है, जैसे भी हो आपको आराम और आपके बच्चे को कोई परेशानी ना हो।

प्रेगनेंसी में अच्छी नींद के उपाय: Pregnancy me acchi neend ke upay in hindi

  • गर्भावस्था के दौरान हर महीने पेट का आकार बढ़ता है जिससे सोने में दिक्कत होती है। इसलिए महिला को अपने सोने के तरीके में थोड़ा बदलाव करते रहना चाहिए जिससे आराम मिल सके।
  • रात को सोने के लिए समय बनाये और प्रयास करें हर रोज उसी समय सोने को जाये। ऐसा करने पर नींद आसानी से आ जाएगी।
  • दिन के समय ज्यादा ना सोएं इससे रात को नींद नहीं आती। दिन में आप आराम कर सकते है।
  • रात को ज्यादा पानी ना पिए उसे बार बार पेशाब लग सकता है जिससे नींद खुलती है और अच्छी नींद नहीं मिल पाती।
  • पैरों में ऐंठन के कारण अगर नींद नहीं आ रही हो तो पैर दबाने से इसमें आराम मिलता है।
  • अपने चिकित्सक की सलाह से योग और एक्सरसाइज करें इससे नार्मल डिलीवरी में भी मदद मिलती है।
  • गर्भवती महिला को तनाव होना सामान्य है पर इससे बचना चाहिए।
  • खाने पीने में अच्छा पौष्टिक आहार ले ताकि बच्चे को पोषण मिले और चाय कॉफी व कोल्ड ड्रिंक से दूर रहे।
  • माँ और बच्चे की सेहत अच्छी रहे इसलिए फास्ट फूड और धूम्रपान जैसी चीजों से दूर रहना चाहिए।
  • बिना डॉक्टर की सलाह के कोई भी दवा ना ले।

दोस्तों प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए, pregnancy me sone ka tarika in hindi का लेख कैसा लगा बताये और अगर आपके पास गर्भावस्था में किस तरफ सोये सही तरीका और सोने की पोजीशन के सुझाव है तो हमारे साथ साझा करे।

हम आशा करते है की sehatdoctor के द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी और जिस भी परेशानी के नुस्खे आपने पढ़ें है उस परेशानी में भी आपको आराम प्राप्त हुआ होगा| किसी भी अन्य बीमारी या परेशानी के लिए हेल्थ टिप्स इन हिंदी (health tips in hindi) और घरेलु नुस्खे इन हिंदी (gharelu nuskhe in hindi) जरूर पढ़ें और लाभ प्राप्त करें| आपका अनुभव कैसा रहा इसकी जानकारी कमेंट करके जरूर बताए |

Recent Articles

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Articles