बदहजमी और फूड पाइज़निंग का इलाज 10 आसान घरेलू उपाय और नुस्खे

Home Remedies - घरेलू नुस्खे बदहजमी और फूड पाइज़निंग का इलाज 10 आसान घरेलू उपाय और नुस्खे

बदहजमी और फूड पाइज़निंग का इलाज लक्षण और उपाय इन हिंदी: कुछ भी खाते ही उल्टी आना, पेट दर्द होना या फिर जी मचलना फूड पाइज़निंग के लक्षण हो सकते है। आजकल लोग घर का खाना कम और बाहर फ़ास्ट फ़ूड जादा खाते है जो पेट का हाजमा खराब होने का प्रमुख कारण है। कुछ लोग फूड पाइज़निंग ट्रीटमेंट के लिए दवा लेते है पर हम बिना मेडिसिन के कुछ घरेलू उपाय और देसी आयुर्वेदिक नुस्खे अपना कर आसान तरीके से बदहजमी का इलाज और फूड पाइज़निंग दूर करने के उपाय कर सकते है, natural ayurvedic and home remedies (gharelu nuskhe) for food poisoning treatment at home in hindi.

फूड पाइज़निंग का इलाज, Food Poisoning in Hindi

 

फूड पाइज़निंग के लक्षण – Food Poisoning Symptoms

  1. दस्त लगना
  2. जी मचलना
  3. पेट दर्द होना
  4. सिर में दर्द होना
  5. पेट में मरोड़ उठना
  6. बार बार उल्टी आना
  7. शरीर में कमजोरी महसूस करना

 

फूड पॉयजनिंग कैसे होता है: Causes of Food Poisoning

  • बासी खाना खाना
  • भोजन करने से पूर्व हाथ ना धोना
  • मक्खी मच्छर खाने की चीजों पर बैठना
  • फल और सब्जियों को खाने से पहले ना धोना
  • भोजन पकाने के लिए दूषित पानी का इस्तेमाल करना

 

फूड पाइज़निंग का इलाज के घरेलू नुस्खे

Gharelu Nuskhe for Food Poisoning in Hindi

 

1. फूड पाइज़निंग के समय शरीर से टॉक्सिन बाहर निकालने के लिए बॉडी पानी अधिक मात्रा में प्रयोग करती है इसलिए ज़रूरी है की शरीर में पानी की कमी ना हो। इसलिए पानी जादा पिए और ऐसी चीजें अधिक खाये पिए जिनमें पानी की मात्रा अधिक हो। इसके इलावा ग्लूकोस लेने और नारियल पानी पिने से भी शारीर में पानी की कमी दूर करने में मदद मिलती है।

2. लहसुन में एंटीबेटिक गुण होते है जो फूड पाइज़निंग का इलाज के लिए घरेलू दवा है, लहसुन की एक कली पानी के साथ निगल जाये।

3. दही में एंटी बैक्टीरियल गुण होते है जो लिवर को इंफेक्शन से बचाते है। बदहजमी से प्रभावित रोगी को खाना खाने के बाद या फिर खाली पेट दही खाना चाहिए।

4. पाचन संबंधी समस्याओं का घरेलू इलाज करने के लिए अदरक का इस्तेमाल कर सकते है। 1 चम्मच शहद में कुछ बूंदे अदरक के रस की मिलाकर लेने से पेट का दर्द दूर होता है।

5. पानी में थोड़ा सा नमक, थोड़ी चीनी और नींबू का रस मिलाकर शिकंजी बनाए और हर दो घंटे में पिए।

6. केले में पोटाशियम जादा होता है, फूड पाइज़निंग के gharelu upay में केला खाना उत्तम है। दस्त रोकने के लिए दही में 1 केला पीस कर खाने से कुछ ही देर में आराम मिलेगा।

7. जी मचलता हो, उल्टी आती हो या फिर दस्त लगे हो ऐसा कुछ भी खाने से परहेज करे जिसे पचने में जादा समय लगे और पाचन तंत्र को अधिक मेहनत करनी पड़े। इसलिए हल्का खाना खाये।

8. बदहजमी व फूड पाइज़निंग का उपचार में जीरा काफ़ी उपयोगी है। 1 चम्मच जीरा भून कर और सूप में मिलाये और पिए। इससे पेट की सूजन और दर्द दूर होता है।

9. पेट के संक्रमण के उपचार के लिए तुलसी काफी उपयोगी है। तुलसी के पत्ते पीसकर एक चम्मच शहद में इसका रस मिलाकर पिने से आराम मिलता है।

10. चावल का मांड और छाछ भी फूड पाइज़निंग से छुटकारा पाने में असरदार है।

 

फूड पाइज़निंग ट्रीटमेंट टिप्स इन हिंदी

  • आप जिस जगह पर खाना खाते है वहां गंदगी नहीं होनी चाहिए।
  • उल्टी दस्त लगे है तो diet में खाने की कम पिने की चीजें जादा ले।
  • घर में किसी व्यक्ति की उल्टी और दस्त लगे हो तो बाकी के सदस्य बासी खाना ना खाए।
  • खाना खाने और पकाने में प्रयोग होने वाले बर्तनों को इस्तेमाल करने से पहले अच्छे से धोये।
  • भोजन करने से पहले हाथ अच्छे से धोए खासकर बाथरूम से बाहर आने के बाद अच्छे से हाथ धोए।

 

बदहजमी से बचने के उपाय 

  • बदहजमी से बचने के लिए सबसे ज़रूरी है साफ़ सफाई का ख्याल रखे। सड़क के किनारे लगी रेहड़ियों पर खाने की चीजें पहले से ही काट कर रखी होती है जिन पर धुल मिट्टी पड़ जाती है और उस पर मक्खी मच्छर बैठने से हानिकारक बैक्टीरिया चले जाते है।
  • ऐसी कुछ छोटी छोटी बातें है जिनका ध्यान रखे तो फूड पॉयजनिंग से दूर रह सकते है। किसी कारण वश अगर फूड पाइज़निंग से उल्टी आना, जी मचलना जैसी परेशानी हो जाये तो इसका इलाज आप बिना दवा के घरेलू नुस्खे अपनाकर आसानी से कर सकते है।

 

बदहजमी की दवा और उपचार करने के बाद भी अगर आराम नहीं मिल रहा और परेशानी बढ़ रही है तो तुरंत किसी डॉक्टर से मिले और टेस्ट करवाए ताकि रोग के कारणों का पता लगे और उपचार सही दिशा में हो सके।

 

दोस्तों बदहजमी फूड पाइज़निंग का इलाज, Gharelu Nuskhe for Food Poisoning in Hindi का ये लेख आपको कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास फूड पॉयजनिंग ट्रीटमेंट के उपाय और देसी घरेलू नुस्खे से जुड़े अनुभव या कोई सुझाव है तो हमारे साथ साँझा करे।

Recent Articles

सौंफ के फायदे,उपयोग और रेसिपी (Fennel seeds in hindi)

सौंफ (Fennel seeds in hindi) शायद ही कोई इंसान हो जिसने सौंफ का इस्तेमाल ना किया हो| सौंफ में सोडियम, डाइटरी फाइबर, प्रोटीन, विटामिन-ए, विटामिन-सी,...

बाजरे के रामबाण फायदे,उपयोग और रेसिपी (millet in hindi)

बाजरा (millet in hindi ) बाजरे में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, डाइटरी फाइबर, फास्फोरस, मैग्नीशियम, फोलेट, आयरन इत्यादि पोषक तत्व और विटामिन्स प्रचुर मात्रा में पाए जाते...

ओरेगेनो के अचूक फायदे,उपयोग और रेसिपी (Oregano in Hindi)

ओरेगेनो (Oregano in Hindi) ओरेगेनो का उपयोग हम व्यंजनों के साथ साथ घरेलू उपायों में भी करते है| ओरेगेनो को हम हिंदी में आजवाइन की...

तिल के अचूक फायदे,उपयोग और रेसिपी (sesame seeds in hindi)

तिल (sesame seeds in hindi) भारत वर्ष में तिल का बहुत अधिक महत्व होते है, कुछ प्रमुख त्योहारो पर तिल से बानी सामग्री का पूजन...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × two =